Hindi Kavita
अहमद फ़राज़
Ahmad Faraz
 Hindi Kavita 

अहमद फ़राज़

अहमद फ़राज़ (१२ जनवरी, १९३१ -अगस्त २५, २००८) का बचपन का नाम सैयद अहमद शाह था । वह प्रसिद्ध पाकिस्तानी उर्दू कवि थे । उनको बीसवीं सदी के महान उर्दू कवियों में गिना जाता है । फ़राज़ उनका तखल्लुस था । उन्होंने पेशावर यूनिवर्सिटी से फ़ारसी और उर्दू की पढ़ाई की और बाद में वहीं लेक्चरर लग गए । जब सैनिक हाकिमों ने उनको सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर गरिफ़्तार किया, तो वह छह साल देश के बाहर रहे। उन्होंने हमेशा ही बेइन्साफ़ी विरुद्ध आवाज़ उठाई । उनके ग़ज़ल/नज़्म संग्रह हैं: दर्द आशोब, पस अन्दाज़-ए-मौसम, शहर-ए-सुख़न अरासता है (कुलीयात), चांद और मैं, नयाफ़त, शब-ए-ख़ूं, तन्हा तन्हा, बे आवाज़ गली कूचों में, जानां जानां, नाबीना शहर में आईना, सब आवाज़ें मेरी हैं, ये मेरी ग़ज़लें वे मेरी नज़्में, ख़ानाबदोश और ज़िंदगी ! ऐ ज़िंदगी !


हिन्दी में कविता/शायरी अहमद फ़राज़

ख़ानाबदोश अहमद फ़राज़

1. हर्फ़े-ताज़ा की तरह क़िस्स-ए-पारीना कहूँ
2. न कोई ख़्वाब न ताबीर ऐ मेरे मालिक
3. तेरा क़ुर्ब था कि फ़िराक़ था वही तेरी जलवागरी रही
4. यूँ तुझे ढूँढ़ने निकले के न आए ख़ुद भी
5. आज फिर दिल ने कहा आओ भुला दें यादें
6. मैं दीवाना सही पर बात सुन ऐ हमनशीं मेरी
7. ना दिल से आह ना लब से सदा निकलती है
8. तेरी बातें ही सुनाने आये
9. ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे
10. दुख फ़साना नहीं के तुझसे कहें
11. तुझसे बिछड़ के हम भी मुकद्दर के हो गये
12. गनीम से भी अदावत में हद नहीं माँगी
13. ज़ख़्म को फ़ूल तो सर-सर को सबा कहते हैं
14. तुझे उदास किया खुद भी सोगवार हुए
15. बुझा है दिल तो ग़मे-यार अब कहाँ तू भी
16. अच्छा था अगर ज़ख्म न भरते कोई दिन और
17. जो चल सको तो कोई ऐसी चाल चल जाना
18. हम सुनायें तो कहानी और है
19. संगदिल है वो तो क्यूं इसका गिला मैंने किया
20. अब वो मंजर, ना वो चेहरे ही नजर आते हैं
21. अव्वल अव्वल की दोस्ती है अभी

दर्द आशोब अहमद फ़राज़

22. फ़नकारों के नाम
23. रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ
24. क़ुर्बतों में भी जुदाई के ज़माने माँगे
25. मा’बूद
26. जुज़ तेरे कोई भी दिन-रात न जाने मेरे
27. न हरीफ़े जाँ न शरीक़े-ग़म शबे-इंतज़ार कोई तो हो
28. शाख़े-निहाले-ग़म
29. ख़ुदकलामी
30. दिल तो वो बर्गे-ख़िज़ाँ है कि हवा ले जाए
31. न इंतज़ार की लज़्ज़त , न आरज़ू की थकन
32. हम तो यूँ ख़ुश थे कि इक तार गिरेबान में है
33. ख़ामोश हो क्यों दादे-ज़फ़ा क्यूँ नहीं देते
34. इज़्हार
35. ख़ुदकुशी
36. सुन भी ऐ नग़्मासंजे-कुंजे-चमन अब समाअत का इन्तज़ार किसे
37. दिल बहलता है कहाँ अंजुमो-महताब से भी
38. वफ़ा के बाब में इल्ज़ामे-आशिक़ी न लिया
39. शिकस्त
40. ज़ेरे-लब
41. ऐसे चुप हैं कि ये मंज़िल भी कड़ी हो जैसे
42. क्या ऐसे कम-सुख़न से कोई गुफ़्तगू करे
43. हरेक बात न क्यों ज़ह्र-सी हमारी लगे
44. हमदर्द
45. ख़्वाब
46. सौ दूरियों पे भी भी मिरे दिल से जुदा न थी
47. जो भी दुख याद न था याद आया
48. सवाल
49. ग़रीबे-शह्र के नाम
50. ज़ख़्म को फूल तो सरसर को सबा कहते हैं
51. नींद
52. ख़ुशबू का सफ़र
53. अब के बरस भी
54. तुझ से मिल कर भी कुछ ख़फ़ा हैं हम
55. तुझे उदास किया ख़ुद भी सोग़वार हुए
56. वही जुनूँ है वही क़ूच-ए-मलामत है
57. पैग़ाम्बर
58. रोज़ की मसाफ़त से चूर हो गए दरिया
59. तू कि अंजान है इस शहर के अंदाज़ समझ
60. ख़ुदा-ए-बरतर
61. क़ुर्ब जुज़ दाग़े-जुदाई नही‍ देता कुछ भी
62. दोस्त बन कर भी नहीं साथ निभाने वाला
63. ये आलम शौक़ का देखा न जाए
64. ख़ुदग़रज़
65. वाबस्तगी
66. अहले-ग़म जाते हैं नाउम्मीद तेरे शहर से
67. तम्सील
68. आँखों में चुभ रहे हैं दरो-बाम के चराग़
69. नज़र की धूप में साये घुले हैं शब की तरह
70. शुहदा-ए-जंगे आज़ादी 1857 के नाम
71. पयंबरे-मश्रिक
72. बतर्जे-बेदिल
73. अल्मिया
74. जब तेरी याद के जुगनू चमके
75. मम्दूह
76. अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
77. अच्छा था अगर ज़ख़्म न भरते कोई दिन और
78. तरस रहा हूँ मगर तू नज़र न आ मुझको
79. किसी तरह तो बयाँ हर्फ़े आरज़ू करते
80. मैं और तू
81. अफ़्रेशियाई अदीबों के नाम
82. मैं कि पुरशोर समन्दर थे मेरे पाँवों में
83. ये तो जब मुम्किन है
84. तुम भी ख़फ़ा हो लोग भी बरहम हैं दोस्तों
85. ज़िंदगी ! ऐ ज़िंदगी
86. चन्द लम्हों के लिए तूने मसीहाई की
87. उतरी थी शहरे-गुल में कोई आतिशी किरन
88. कोई भटकता बादल
89. करूँ न याद मगर किस तरह भुलाऊँ उसे
90. किसी के तज़्क़िरे बस्ती में कू-ब-कू जो हुए
91. तू पास भी हो तो दिल बेक़रार अपना है
92. तिर्याक़
93. फिर भी तू इंतज़ार कर शायद
94. अब वो झोंके कहाँ सबा जैसे
95. अफ़ई की तरह डसने लगी मौजे-नफ़स भी
96. बेसरो-सामाँ थे लेकिन इतना अन्दाज़ा न था
97. मुस्तक़िल महरूमियों पर भी तो दिल माना नहीं
98. जिससे ये तबियत बड़ी मुश्किल से लगी थी
99. मुन्तज़िर कब से तहय्युर है तेरी तक़रीर का
100. दिल भी बुझा हो शाम की परछाइयाँ भी हों
101. पयाम आए हैं उस यार-ए-बेवफ़ा के मुझे
102. अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएं हम

Ahmad Faraz

Ahmed Faraz born Syed Ahmad Shah (January 12, 1931-August 25, 2008) was a Pakistani Urdu poet. He is one of the great modern Urdu poets of the last century. Faraz is his pseudonym 'takhalus'. Ahmed Faraz studied Persian and Urdu at the Peshawar University and became lecturer there. He spent six years in self-imposed exile as he was arrested for criticising the military rulers. He always raised his voice against injustice. His books include Pas-e-Andaz-e-Mausam, Shehr-e-Sukhan Arasta Hai (Kulliyaat), Chand Aur Main, Nayafat, Shab-e-Khoon, Tanha Tanha, Be Aawaz Gali Kuchon Main, Janan Janan, Nabeena Shehr Mein Aaina, Sab Awazen Meri Hain, Khanabadosh, Dard Ashob, Ye Meri Ghazlein Ye Meri Nazmein and Zindgi Ai Zindgi.


Poetry in Hindi Ahmad Faraz

Khanabadosh Ahmad Faraz

1. Harfe Taza Ki Tarah Kiss-e-Parina Kahun
2. Na Koi Khwab Na Tabir Ai Mere Malik
3. Tera Qurb Tha Ki Firaq Tha
4. Yun Tujhe Dhoondhne Nikle Ki Na Aaye Khud Bhi
5. Aaj Phir Dil Ne Kaha Aao Bhula Dein Yadein
6. Main Diwana Sahi Par Baat Sun Ai Hamnashin Meri
7. Na Dil Se Aah Na Lab se Sada Nikalti Hai
8. Teri Baaten Hi Sunane Aaye
9. Zindgi Se Yehi Gila Hai Mujhe
10. Dukh Fasana Nahin Ki Tujhse Kahein
11. Tujhse Bichhar Ke Ham Bhi Muqaddar Ke Ho Gaye
12. Ganeem Se Bhi Adavat Mein Had Nahin Maangi
13. Zakham Ko Phool To Sar-Sar Ko Saba Kahte Hain
14. Tujhe Udaas Kiya Khud Bhi Sogwar Huye
15. Bujha Hai Dil To Ghame-Yaar Ab KahanTu Bhi
16. Achhchha Tha Agar Zakham Na Bharte
17. Jo Chal Sako To Koi Aisi Chaal Chal Jana
18. Ham Sunayen To Kahani Aur Hai
19. Sangdil Hai Vo To Kyun Iska Gila Maine Kiya
20. Ab Vo Manjar Na Chehre Hi Nazar Aate Hain
21. Awwal Awwal Ki Dosti Hai Abhi

Dard Ashob Ahmad Faraz

22. Fankaron Ke Naam
23. Ranjish Hi Sahi
24. Qurbaton Mein Bhi Judaee Ke Zamane Maange
25. Maabood
26. Juz Tere Koi Bhi Din Raat Na Jaane Mere
27. Na Harife Jaan Na Shariqe Gham
28. Shaakhe-Nihaale-Gham
29. Khudkalaami
30. Dil To Woh Barghe-Khijan Hai
31. Na Intzar Ki Lazzat Na Aarzu Ki Thakan
32. Ham To Yun Khush The
33. Khamosh Ho Kyon Daad-e-Jafa Kyon Nahin Dete
34. Izhaar
35. Khudkashi
36. Sun Bhi Ai Naghmasanje-Kunje-Chaman
37. Dil Bahalta Hai Kahan Anjumo-Mahtab Se Bhi
38. Wafa Ke Baab Mein Ilzame-Aashiqi Na Liya
39. Shikast
40. Zere Lab
41. Aise Chup Hain Ki Yeh Manzil Bhi Kari Ho Jaise
42. Kaya Aise Kam Sukhan Se Koi Gufatgu Kare
43. Harek Baat Na Kyon Zehar Si Hamari Lagey
44. Hamdard
45. Khwab
46. Sau Dooriyon Pe Bhi Mire Dil Se Juga Na Thi
47. Jo Bhi Dukh Yaad Na Tha Yaad Aaya
48. Sawal
49. Gharibe Shehar Ke Naam
50. Zakham Ko Phool To Sarsar Ko Hawa Kehtey Hain
51. Neend
52. Khushboo Ka Safar
53. Ab Ke Baras Bhi
54. Tujh Se Mil Kar Bhi Kuchh Khafa Hain Ham
55. Tujhe Udaas Kiya Khud Bhi Sogwar Huye
56. Wohi Junun Hai Wohi Kooch-e-Malamat Hai
57. Paighambar
58. Roz Ki Masafat Se Choor Ho Gaye Dariya
59. Tu Ki Anjaan Hai Is Shehar Ke Andaz Samajh
60. Khuda-e-Bartar
61. Qurb Juz Daaghe Judai Nahin Deta Kuchh Bhi
62. Dost Ban Kar Bhi Nahin Saath Nibhane Wala
63. Yeh Aalam Shauq Ka Dekha Na Jaye
64. Khudgharaz
65. Vabastgi
66. Ahle Gham Jaate Hain Naumeed Tere Shehar Se
67. Tamseel
68. Aankhon Mein Chubh Rahe Hain Daro-Baam Ke Charagh
69. Nazar Ki Dhoop Mein Saaye Ghule Hain
70. Shuhda-e-Jange-Aazaadi 1857 Ke Naam
71. Paiyambre-Mashrik
72. Batarje Dil
73. Almiya
74. Jab Teri Yaad Ke Jugnu Chamke
75. Mamdooh
76. Ab Ke Ham Bichhre To Shayad Kabhi Khwabon Mein Milen
77. Achhchha Tha Agar Zakham Na Bharte Koi Din Aur
78. Taras Raha Hoon Magar Tu Nazar Na Aa Mujhko
79. Kisi Tarah To Bayan Harfe Aarzu Karte
80. Main Aur Tu
81. Afreshiayi Adeebon Ke Naam
82. Main Ki Purshor Samandar The Mere Paon Mein
83. Yeh To Jab Mumkin Hai
84. Tum Bhi Khafa Ho Log Bhi Barham Hain dosto
85. Zindgi Ai Zindgi
86. Chand Lamhon Ke liye Tune Masihaai Ki
87. Utari Thi Shehare-Gul Mein Koyi Aatishi Kiran
88. Koi Bhatakta Baadal
89. Karun Na Yaad Magar Kis Tarah Bhulayoon Usey
90. Kisi Ke Tazqire Basti Mein Ku-Ba-Ku Jo Huye
91. Tu Paas Bhi Ho To Dil Beqarar Apna Hai
92. Tiryaq
93. Phir Bhi Tu Intezar Kar Shayad
94. Ab Woh Jhonke Kahan Saba Jaise
95. Afai Ki Tarah Dasne Lagi Mauje Nafas Bhi
96. Besaro Saman The Lekin Itna Andaza Na Tha
97. Mustkil Mehroomiyon Par Bhi Dil Mana Nahin
98. Jis Se Yeh Tabiyat Bari Mushkil Se Lari Thi
99. Muntazir Kab Se Tahayyur Hai Teri Taqreer Ka
100. Dil Bhi Bujha Ho Shaam Ki Parchhayian Bhi Hon
101. Payaam Aaye Hain Us Yaar-e-Bewafa Ke Mujhe
102. Ab Aur Kisi Se Kaya Marasim Barhayen Ham
 
 
 Hindi Kavita