Hindi Kavita
बाबा बुल्ले शाह
Baba Bulleh Shah
 Hindi Kavita 

बाबा बुल्ले शाह

बाबा बुल्ले शाह (१६८० -१७५८) पंजाबी सूफ़ी काव्य के आसमान पर एक चमकते सितारे की तरह हैं। उन की काव्य रचना उस समय की हर किस्म की धार्मिक कट्टरता और गिरते सामाजिक किरदार पर एक तीखा व्यंग्य है। उन की रचना लोगों में अपने लोग जीवन में से लिए अलंकारों और जादुयी लय की वजह से बहुत ही हर मन प्यारी है। बाबा बुल्ले शाह ने बहुत बहादुरी के साथ अपने समय के हाकिमों के ज़ुल्मों और धार्मिक कट्टरता विरुद्ध आवाज़ उठाई। बाबा बुल्ल्हे शाह जी की कविता में काफ़ियां, दोहड़े, बारांमाह, अठवारा, गंढां और सीहरफ़ियां शामिल हैं ।

काफ़ियां बाबा बुल्ले शाह हिंदी

. अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ
. अपने संग रलाईं प्यारे, अपने संग रलाईं
. अब हम गुंम हूए, प्रेम नगर के शहर
. अब क्यों साजन चिर लायो रे
. अब लगन लगी किह करिए
. अम्मां बाबे दी भलिआई
. अलफ़ अल्लाह नाल रत्ता दिल मेरा
. आ मिल यार सार लै मेरी
. आओ फ़कीरो मेले चलिए
. आओ सईयो रल दियो नी वधाई
. आ सजन गल लग्ग असाडे
. इह अचरज साधो कौण कहावे
. इह दुख जा कहूं किस आगे
. इक अलफ़ पढ़ो छुटकारा ए
. इक नुक़्ता यार पढ़ाइआ ए
. इक नुक़्ते विच गल्ल मुक्कदी ए
. इक रांझा मैनूं लोड़ीदा
. इलमों बस्स करीं ओ यार
. इश्क असां नाल केही कीती, लोक मरेंदे तअने
. इश्क दी नवीयों नवीं बहार
. इश्क हकीकी ने मुट्ठी कुड़े
. इस नेहुं दी उलटी चाल
. उलटे होर ज़माने आए
. उलटी गंग बहाइओ रे साधो, तब हर दरसन पाए
. उट्ठ गए गवांढों यार
. उट्ठ जाग घुराड़े मार नहीं
. ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता
. ऐसा मन में आइयो रे
. कदी आ मिल बिरहों सताई नूं
. कदी आ मिल यार प्यारिआ
. कदी आपनी आख बुलाओगे
. कदी मोड़ मुहारां ढोलिआ
. कपूरी रेवड़ी क्युं कर लड़े पतासे नाल
. कर कत्तन वल्ल ध्यान कुड़े
. कत्त कुड़े ना वत्त कुड़े
. कौन आया पहन लिबास कुड़े
. केहे लारे देना एं सानूं दो घड़ियां मिल जाईं
. की बेदरदां संग यारी
. कीहनूं ला-मकानी दस्सदे हो
. की जाणां मैं कोई
. की करदा बेपरवाही जे
. की करदा नी कोई पुच्छो खां दिलबर की करदा
. क्युं इश्क असां ते आया ए
. क्युं लड़ना हैं क्युं लड़ना हैं ग़ैर गुनाही
. क्युं ओहले बह बह झाकी दा
. ख़ाकी ख़ाक स्युं रल जाणा
. खेड लै विच वेहड़े घुंमी घुंम
. गल्ल रौले लोकां पाई ए
. गुर जो चाहे सो करदा ए
. घड़िआली दियो निकाल नी
. घर में गंगा आई संतो, घर में गंगा आई
. घुंघट चुक्क ओ सजणा, हुण शरमां काहनूं रक्खियां वे
. घुंघट ओहले ना लुक्क सोहणिआँ
. चलो देखिए उस मसतानड़े नूं
. चुप्प करके करीं गुज़ारे नूं
. जिचर ना इश्क मजाज़ी लागे
. जिन्द कुड़िकी दे मूंह आई
. जिस तन लगिआ इश्क कमाल
. जो रंग रंगिआ गूढ़ा रंगिआ, मुरशद वाली लाली ओ यार
. टुक्क बूझ कौन छुप आया ए
. टूने कामन करके नी मैं प्यारा यार मनावांगी
. ढोला/मौला आदमी बण आया
. तैं कित पर पाउं पसारा ए
. तांघ माही दी जलियां
. तेरे इश्क नचाइआ कर थईआ थईआ/बहुड़ीं वे तबीबा मैंडी जिन्द गईआ
. तूं किधरों आया किधर जाणा, आपना दस्स टिकाणा
. तूं नहीउं मैं नाहीं वे सज्जणा, तूं नहीउं मैं नाहीं
. तुसीं आओ मिल मेरी प्यारी
. तुसीं करो असाडी कारी
. दिल लोचे माही यार नूं
. ना जीवां महाराज, मैं तेरे बिन ना जीवां
. नी कुटीचल मेरा नां
. नी मैं हुन सुण्या इशक शर्हा की नाता
. नी मैं कमली हां/हाजी लोक मक्के नूं जांदे
. नी मैनूं लग्गड़ा इशक अवल्ल दा
. नी सईयो मैं गई गवाची
. नित्त पढ़ना एं इसतग़फ़्फ़ार कैसी तौबा है इह यार
. पानी भर भर गईआं सभ्भे, आपो आपनी वार
. परदा किस तों राखीदा
. पड़तालिओ हुन आशक केहड़े
. पत्तियां लिखूंगी मैं शाम नूं, पिया मैनूं नज़र ना आवे
. प्यारे बिन मसल्हत उट्ठ जाणा
. प्यारिआ संभल के नेहुं ला पिच्छों पछतावेंगा
. प्यारिआ सानूं मिट्ठड़ा ना लग्गदा शोर
. पिया पिया करते हमीं पिया हुए
. फ़सुमा वजउल-अल्लाह दस्सना एं अज्ज ओ यार
. बहुड़ीं वे तबीबा मैंडी जिन्द गईआ
. बंसी काहन अचरज बजाई
. बस्स कर जी हुण बस्स कर जी
. बेहद्द रमज़ां दसदा नीं, ढोलण माही
. बुल्ला की जाणा मैं कौण
. बुल्ला की जाने ज़ात इश्क दी कौण
. बुल्ल्हे नूं समझावण आईआं, भैणां ते भरजाईआं
. भैणां मैं कत्तदी कत्तदी हुट्टी
. भावें जाण ना जाण वे वेहड़े आ वड़ मेरे
. भरवासा की आशनाई दा
. माटी कुदम करेंदी यार
. माही वे तैं मिलिआं सभ दुक्ख होवन दूर
. मैं बे-कैद मैं बे-कैद
. मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दे दरबारों
. मैं चूहरेटड़ी आं सच्चे साहब दी सरकारों
. मैं गल्ल ओथे दी करदा हां
. मैं कुसुम्बड़ा चुन चुन हारी
. मैं क्युं कर जावां काअबे नूं
. मैं पा पढ़िआं तों नस्सना हां
. मैं पाइआ ए मैं पाइआ ए
. मैं पुच्छां शहु दियां वाटां नी
. मैनूं छड्ड गए आप लद्द गए मैं विच की तकसीर
. मैनूं दरद अवल्लड़े दी पीड़
. मैं उडीकां कर रही कदी आ कर फेरा
. मैनूं इश्क हुलारे देंदा
. मैनूं की होया हुन मैथों गई गवाती मैं
. मैनूं सुक्ख दा सुनेहड़ा तूं झब लिआवीं वे
. मैं विच मैं ना रह गई राई
. मैं वैसां जोगी दे नाल, मत्थे तिलक लगा के
. मन अटकियो शाम सुन्दर सों
. माए ना मुड़दा इश्क दीवाना, शहु नाल परीतां ला के
. मेरा रांझा हुन कोई होर
. मेरे घर आया पिया हमारा
. मेरे क्युं चिर लाइआ माही
. मेरे माही क्युं चिर लाइआ ए
. मेरे नौशहु दा कित मोल
. मेरी बुक्कल दे विच्च चोर
. मिल लओ सहेलड़ीयो मेरी राज गहेलड़ीयो
. मित्तर प्यारे कारन नी मैं लोक उल्हामें लैनी हां
. मूंह आई बात ना रहन्दी ए
. मुल्लां मैनूं मारदा ई
. मुरली बाज उठी अणघातां
. रातीं जागें करें इबादत
. रहु रहु उए इशका मारिआ ई
. रैन गई लटके (लुड़के) सभ तारे
. रांझा जोगीड़ा बण आया
. रांझा रांझा करदी नी मैं आपे रांझा होई
. रोज़े हज्ज निमाज़ नी माए
. लणतरानी दस्स के जानी हुन क्युं मुक्ख छुपाइआ ई
. वेखो नी कर गया माही
. वेखो नी प्यारा मैनूं सुफने में छल गया
. वेखो नी शहु इनायत साईं
. वाह सोहण्यां तेरी चाल अजायब लटकां नाल चलेंदे ओ
. वाह वाह छिंझ पई दरबार
. वाह वाह रमज़ सजन दी होर
. वल परदे विच पाइआ यार आपे मेल मिलाइआ ए
. वत्त ना करसां मान रंझेटे यार दा वे अड़िआ
. सभ इको रंग कपाहीं दा
. सदा मैं साहवरिआं घर जाणा
. साडे वल्ल मुक्खड़ा मोड़ वे प्यारिआ
. साईं छुप तमाशे नूं आया
. सज्जणां दे विछोड़े कोलों तन दा लहू छानी दा
. सानूं आ मिल यार प्यारिआ
. सईयो हुन मैं साजन पाइओ ई
. से वणजारे आए नी माए, से वणजारे आए
. सुनो तुम इशक की बाज़ी, मलायक है कहां राज़ी
. हाजी लोक मक्के नूं जांदे
. हत्थी ढिलक गई मेरे चरखे दी
. हिजाब करें दरवेशी कोलों, कद तक हुक्म चलावेंगा
. हिन्दू ना नहीं मुसलमान
. होरी खेलूंगी कह बिसमिलाह
. हुण किस थीं आप छुपाईदा
. हुण मैं लखिआ सोहणा यार
. हुण मैनूं कौण पछाणे, हुण मैं हो गई नी कुझ होर

Baba Bulleh Shah Baba Bullhe Shah

Baba Bulleh Shah (1680-1758), is a shining star of Punjabi Sufi Poetry. His poetry is a great satire on any type of religious orthodoxy. His poetry appeals, as he adopted symbols and metaphors from his surroundings. Baba Bulleh Shah has shown extreme bravery and secularism while writing against the religious bigotry and tyranny of the rulers of his times. Punjabi Poetry of Baba Bulleh Shah consists of Kafian, Dohre, Baranmah, Athwara, Gandhan and Siharfian.We present complete Punjabi Poetry of Baba Bulleh Shah in Hindi script.

Kafian Baba Bulleh Shah in Hindi

. Aa Mil Yaar Saar Lai Meri
. Aao Faqiro Mele Chaliye
. Aao Saiyo Ral Dio Ni Vadhai
. Aa Sajan Gal Lag Asade
. Ab Hum Gum Huye Prem Nagar Ke Shahar
. Ab Kyon Sajan Chir Layo Re
. Ab Lagan Lagi Ki Kariye
. Aisa Jagiya Gian Palita
. Aisa Man Mein Ayo Re
. Akhan Vich Dil Jaani Piariya
. Alif Allah Naal Ratta Dil Mera
. Amma Babe Di Bhaliayi
. Apne Sang Ralain Piare
. Bahurin Ve Tabiba Nahin Te Main Mar Gayian
. Bansi Kahn Acharj Bajayi
. Bas Kar Ji Hun Bas Kar Ji
. Behad Ramzan Dasda Mera Dholan Mahi
. Bhaina Main Katdi Katdi Hutti
. Bhanven Jaan Na Jaan Ve Vihre Aa Var Mere
. Bharwasa Ki Ashnai Da
. Bullha Ki Jana Main Kaun
. Bullha Ki Jane Zaat Ishq Di Kaun
. Bullhe Nu Samjhavan Aayian Bhaina Te Bharjayian
. Chalo Dekhiye Us Mastanre Nu
. Chup Karke Karin Guzare Nu
. Dhola/Maula Aadmi Ban Aya
. Dil Loche Maahi Yaar Nu
. Eh Acharj Sadho Kaun Kahave
. Eh Dukh Ja Kahoon Kis Aage
. Fasuma Vajul-Allah Dasna En Aj O Yaar
. Gal Lokan Raule Payi Ae
. Ghariyali Dio Nikal Ni
. Ghar Mein Ganga Aai Santo
. Ghunghat Chuk O Sajna
. Ghunghat Ohle Na Luk Sajna (Sohniyan)
. Gur Jo Chahe So Karda Ae
. Haji Lok Makke Nu Jande
. Hathi Dhilak Gayi Mere Charkhe Di
. Hijab Karen Darveshi Kolon
. Hindu Na Nahin Musalman
. Hori Kheloongi Keh Bismillah
. Hun Kis Thin Aap Chhupaida
. Hun Main Lakhiya Sohna Yaar
. Hun Mainu Kaun Pachhane
. Ik Alif Parho Chhutkara He
. Ik Nukta Yaar Parhaya He
. Ik Nukte Vich Gal Mukdi He
. Ik Ranjha Mainu Lorida
. Ilmon Bas Kareen O Yaar
. Ishq Asaan Naal Kehi Kiti Lok Marende Taane
. Ishq Di Navion Naveen Bahar
. Ishq Haqiqi Ne Muthi Kure
. Is Nehun Di Ulti Chal
. Jichar Na Ishq Majazi Lage
. Jind Kuriki De Moonh Aayi
. Jis Tan Lagya Ishq Kamal
. Jo Rang Rangiya Goorha Rangiya
. Kadi Aa Mil Birhon Satayi Nu
. Kadi Aa Mil Yaar Pyariya
. Kadi Apni Aakh Bulaoge
. Kadi Mor Muharan Dholiya
. Kapuri Rewri Kiun Kar Lare Patase Naal
. Kar Kattan Wal Dhyan Kure
. Katt Kure Na Vat Kure
. Kaun Aya Pehan Libas Kure
. Kehe Lare Dena Ain Sanoon Do Gharian Mil Jayin
. Khaki Khak Syun Ral Jana
. Khed Lai Vich Vehre Ghumi Ghum
. Ki Bedardan Sang Yaari
. Kihnu La Makani Dasde Ho
. Ki Jana Main Koi
. Ki Karda Beparwahi Je
. Ki Karda Ni Koi Puchho Khan Dilbar Ki Karda
. Kyun Ishq Asan Te Aya E
. Kyun Larna Hain Gair Gunahi
. Kyun Ohle Bah Bah Jhaki Da
. Lantarani Das Ke Jani Hun Kyun Mukh Chhupaia E
. Maati Kudam Karendi Yaar
. Mahi Ve Tain Milian Sabh Dukh Hovan Door
. Main Bekaid Main Bekaid-Bullhe Shah
. Main Choohretri Han Sacche Sahib De Darbaron
. Main Choohretri Han Sacche Sahib Di Sarkaron
. Main Gal Othe Di Karda Han
. Main Kusumbra Chun Chun Hari
. Main Kyun Kar Jawan Kaabe Nu
. Main Pa Parhian Ton Nasna Han
. Main Paya He Main Paya He
. Main Puchhan Shahu Dian Watan Ni
. Mainu Chhad Gaye Aap Lad Gaye
. Mainu Dard Awallre Di Peer
. Main Udeekan Kar Rahi Kadi Aa Kar Fera
. Mainu Ishq Hulare Denda
. Mainu Ki Hoya Hun Maithon Gayi Gawati Main
. Mainu Sukh Da Sunehra Toon Jhab Liyavin Ve
. Main Vich Main Na Reh Gayi Kayi
. Main Waisan Jogi De Naal Mathe Tilak Laga Ke
. Man Atkiyo Sham Sundar Son
. Maye Na Murda Ishq Diwana Shahu Naal Preetan La Ke
. Mera Ranjha Hun Koyi Hor
. Mere Ghar Aya Piya Hamara
. Mere Kyun Chir Laya Mahi
. Mere Mahi Kyun Chir Laya E
. Mere Naushahu Da Kit Mol
. Meri Bukkal De Vich Chor
. Mil Layo Sahelrio Meri Raj Gahelrio
. Mitar Pyare Karan Ni Main Lok Ulhame Laini Han
. Moonh Aayi Baat Na Rehndi E
. Mullan Mainu Marda Ee
. Murli Baaj Uthi Anghatan
. Na Jeevan Maharaj Main Tere Bin Na Jeevan
. Ni Kutichal Mera Nan
. Ni Main Hun Sunian Ishq Sharha Ki Nata
. Ni Main Kamli Haan
. Ni Mainu Lagra Ishq Awal Da
. Ni Sayio Main Gayi Gawachi
. Nit Parhna En Istighfar Kaisi Tauba Hai Ih Yaar
. Pani Bhar Bhar Gayian Sabhe
. Parda Kis Ton Rakhida
. Partaliyo Hun Aashiq Kihre
. Pattian Likhungi Main Sham Nu
. Piare Bin Maslihat Uth Jana
. Piaria Sambhal Ke Nehun La
. Piaria Sanoon Mithra Na Lagda Shor
. Piya Piya Karte Hamin Piya Huye
. Raatin Jagen Karen Ibadat
. Rahu Rahu Oye Ishqa Mariya Ee
. Rain Gayi Latke Sabh Tare
. Ranjha Jogira Ban Aya
. Ranjha Ranjha Kardi Ni Main Aape Ranjha Hoi
. Roze Haj Namaz Ni Maye
. Sabh Iko Rang Kapahin Da
. Sada Main Sahvariyan Ghar Jana
. Sade Wal Mukhra Mor Ve Piariya
. Saeen Chhup Tamashe Nu Aya
. Sajna De Vichhore Kolon Tan Da Lahu Chhani Da
. Sanu Aa Mil Yaar Piaria
. Sayio Hun Main Sajan Payo Ee
. Se Vanjare Aye Ni Maye
. Suno Tum Ishq Ki Bazi Malayak Hai Kahan Razi
. Tain Kit Par Paon Pasara Ee
. Tangh Mahi Di Jalian
. Tere Ishq Nachaya Kar Thaiya Thaiya
. Toone Kaman Karke Ni Main Piyara Yaar Manavangi
. Toon Kidhron Aya Kidhar Jana
. Toon Nahinon Main Nahin Ve Sajna
. Tuk Boojh Kaun Chhup Aya E
. Tusin Aao Mil Meri Pyari
. Tusin Karo Asadi Kaari
. Ulte Hor Zamane Aye
. Ulti Ganga Bahayo Re Sadho
. Uth Gaye Gawandhon Yaar
. Uth Jag Ghurare Mar Nahin
. Vekho Ni Ki Kar Gaya Mahi
. Vekho Ni Pyara Mainu Sufne Mein Chhal Gaya
. Vekho Ni Shahu Inayat Saeen
. Wah Sohniyan Teri Chaal Ajayab
. Wah Wah Chhinjh Payi Darbar
. Wah Wah Ramaz Sajan Di Hor
. Wal Parde Vich Paya Yaar
. Wat Na Karsan Maan Ranjhete Yaar Da Ve Ariya
 
 Hindi Kavita