Hindi Kavita
बहादुर शाह ज़फ़र
Bahadur Shah Zafar
 Hindi Kavita 

Poetry in Hindi Bahadur Shah Zafar

बहादुर शाह ज़फ़र

बहादुर शाह ज़फ़र (अक्तूबर, १७७५ -७ नवंबर, १८६२) भारत के अंतिम मुग़ल बादशाह थे। वह २८ सितम्बर १८३७ को अपने पिता की मौत के बाद बादशाह बने। उन का राज लगभग लाल किले की दीवारों तक सीमित था। उन्हों ने उर्दू में काफ़ी गज़लें लिखीं, जो'कुलीयाते-ज़फ़र'में दर्ज़ हैं। उनका नाम का ही दरबार था, उसमें गालिब, दाग़, मोमिन और ज़ौक का आना जाना आम था। वह पके सूफ़ी थे और हिंदुयों और मुसलमानों को बराबर समझते थे। उन्होंने १८५७ की जंगे-आज़ादी में हिस्सा लिया। अंग्रेजों ने उन को बंदी बना कर रंगून (बर्मा) भेज दिया। उन को कैद में लिखने के लिए कागज़ और कलम न दिए गए। उन्होंने अपनी मशहूर ग़ज़ल 'लगता नहीं है जी (दिल) मेरा उजड़े दयार में' अपने कमरे की दीवारों पर जली हुई लकड़ी के साथ लिखी।

Poetry Bahadur Shah Zafar

1. Aage Pahunchate Dahan Tak Khat-o-Paigham Ko Dost
2. Aashna Hai To Ashna Samjhe
3. Baat Karni Mujhe Mushkil Kabhi Aisi To Na Thi
4. Beech Mein Parda Dui Ka Tha Jo
5. Hamne Duniya Mein Aake Kya Dekha
6. Ham To Chalte Hain Lo Khuda Hafiz
7. Ja Kahiyo Unse Naseem-e-Sahar
8. Jo Tamasha Dekhne Duniya Mein The Aaye Huye
9. Kahin Main Guncha Hoon
10. Kije Na Das Mein Baith Kar Aapas Ki Baatcheet
11. Lagta Nahin Hai Ji Mera Ujre Dayar Mein
12. Nahin Ishq Mein Iska To Ranj Hamen
13. Nahin Jata Kisi Se Vo Marz
14. Na Kisi Ki Aankh Ka Noor Hoon
15. Na Rahi Tab-o-Na-Tavan Baqi
16. Naseeb Achchhe Agar Bulbul Ke Hote
17. Na To Kuchh Kufar Hai Na Deen Kuchh Hai
18. Ravish-e-Gul Hain Kahan Yaar Hansane Wale
19. Tere Jis Din Se Khak-e-Pa Hain Ham
20. The Kal Jo Apne Ghar Mein
21. Ya Mujhe Afsar-e-Shaha Na Banaya Hota
 
 
 Hindi Kavita