Hindi Kavita
कृष्ण बेताब
Krishan Betab
 Hindi Kavita 

Poetry in Hindi Krishan Betab

कृष्ण बेताब

कृष्ण बेताब (१ अगस्त १੯३३ -) का जन्म अपने ननिहाल मसूरी (उत्तराखंड) में पिता सेठ हरप्रसाद शिवहरे और माता श्रीमति कृपा देवी के घर हुआ । आप ने १੯८० से १੯८੯ तक बच्चों के लिए 'बाल विदिअक जोत' मैगज़ीन की सम्पादना भी की । आप को शैक्षिक क्षेत्र में राज स्तरीय और राष्ट्रीय पुरुस्कार के साथ भी सम्मानित किया गया है। आप उर्दू और पंजाबी जगत में एक कहानीकार के तौर पर अधिक जाने जाते हैं। आप की उर्दू रचनायें लम्हों की दासतां, दर्द की फ़सल और शोलों पे बर्फबारी हैं। पंजाबी रचनायें सूरज सलाम करदा है, केसर दी ख़ुशबू, नायक बण गया खलनायक, लहू दा दरिया, पत्ती पत्ती (मिन्नी कहाणियां), बन्द मुट्ठी दी चीख़, सूरज दा सफ़र (आतमकथा) और इतिहास रियासत-ए-जींद हैं।

Poetry in Hindi Krishan Betab

1. Aaj Bhi
2. Andaz Tera Aur Bhi Bimar Na Kar De
3. Chand Se Badal Hataya Kijiye
4. Deep Nayan Ke Jal Uthte Hain
5. Hiroshima Ki Tabahi Par
6. Ishq Ke Kooche Mein Yun
7. Jala Ja Raha Hoon Main
8. Junoon Ka Silsila Kuchh Aise
9. Kuchh Apna Shauk Hai
10. Lazim Hai Ki Har Baat Mein
11. Nari Ke Prati
12. Paigham-e-Aman
13. Payasi Rooh
14. Qaum Eenton Se Tamir Nahin Hoti
15. Safdar Hashmi Ke Qatal Par
16. Tishnagi
17. Connaught Palace
18. Musalsal Khijan Yun Chha Gayi Hai
19. Gire Hain Jab Bhi Ashq
20. Teri Nazar
21. Unka Jism Jaise Koi Kanch Ka But Ho
22. Musavvar Ke Naam
23. Aaj Ke Insan
24. Qataat
25. Rubaiyat
 
 
 Hindi Kavita